छग में जल्द खुलेंगे कॉलेज, उच्च शिक्षा विभाग ने छात्रों से मांगा सुझाव, कब खोले जाएं कॉलेज -

छग में जल्द खुलेंगे कॉलेज, उच्च शिक्षा विभाग ने छात्रों से मांगा सुझाव, कब खोले जाएं कॉलेज

रायपुर: कोरोना काल के चलते देशभर के सभी स्कूल कॉलेज बंद कर दिए गए था। हालांकि कोरोना संक्रमण के बीच कॉलेज खोल तो दिए गए हैं, लेकिन वहां क्लासेस नहीं लग रही है। लेकिन अब धीरे-धीरे स्थिति सामान्य होने के साथ-साथ केंद्र सरकार ने कुछ चीजों की अनुमति दे दी है। इसी बीच अब केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को कॉलेज में पढ़ाई शुरू करने की अनुमति दे चुका है। इसी बीच खबरें हैं कि छग में जल्द ही कॉलेजों में पढ़ाई शुरू हो सकती है। राज्य सरकार अपनी सुविधा और शर्तों के साथ कॉलेज में पढ़ाई शुरू कर सकते हैं। फिलहाल इसकी कवायद केंद्र से अनुमति मिलने के बाद शुरू कर दी है।

हालांकि, इस बारे में उच्च शिक्षा विभाग ने इस बारे में छात्रों से सलाह ली है कि कॉलेज कब से खोलने चाहिए। इसके लिए चार तारीखों का विकल्प भी दिया गया है, जो नवंबर और दिसंबर के लिए है। इसी तरह का फीडबैक फार्म शिक्षकों को भी भरना है। यहां तक कि कॉलेज के प्राचार्य और कुलसचिवों को भी कॉलेज खोलने पर अपनी राय रखनी है। अफसरों का कहना है कि कॉलेज खोलने को लेकर संस्थान फीडबैक फार्म के माध्यम इकट्ठा करेंगे। उसके बाद इसे उच्च शिक्षा में जमा किया जाएगा, कोरोना काल में मार्च से ही पढ़ाई बंद है।

स्कूल खोलने को लेकर सरकार ने जारी की गाइडलाइन

अनलॉक 5 में सरकार 15 अक्टूबर से स्कूल खोलने की तैयारी में है। स्कूल खोलने को लेकर SOP पहले ही जारी कर दी गई है। अब शिक्षा मंत्रालय ने इसे लेकर गाइडलाइन भी जारी कर दी है। हलांकि स्कूल खोलने का फैसला राज्य स्थिती के हिसाब से लिया है। शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक स्कूल प्रबंधन से बातचीत के बात ही स्कूल खोलने का फैसला लिया जाएगा। इसके लिए अलावा ऑनलाइन और डिस्टेंस लर्निंग को प्रोत्साहन दिया जाएगा। केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने जोर देते हुए कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि राज्य इस एसओपी का अच्छे से पालन करेंगे और किसी को भी जबरदस्ती स्कूल नहीं बुलाया जाएगा।

क्या है गाइडलाइन

– स्कूल खोलने के पहले करना होगा सैनिटाइज
– हाथ धोने का स्कूल में करना होगा प्रबंध
– बच्चों के बैठने का प्लान बनाना होगा
– बस में करना होगी सैनिटाइजेशन की व्यवस्था
– क्लासेस के बीच समय के अंतर का प्लान
– एंट्री और एग्जिट पर सुरक्षा के इंतेजाम
– हॉस्टल में रहन-सहन का प्रबंध
– क्लास, लैब, और ग्राउंड में लगाना होगा मास्क
– बार-बार हाथ धोने के शिष्टाचार का पालन
– बिना पालकों की लिखित अनुमति के बच्चे नहीं जा सकेंगे स्कूल
– अटेंडेस में लचीलेपन गाइडलाइन में शामिल
– छात्रों के पास होंगे ऑनलाइन-ऑफलाइन विकल्प

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password