CG AgustaWestland deal check: क्रैश में हुई 2 पायलट की मौत के मामले में हेलीकॉप्टर खरीदी की होगी जांच

CG AgustaWestland deal check: क्रैश में हुई 2 पायलट की मौत के मामले में हेलीकॉप्टर खरीदी की होगी जांच

CG AgustaWestland deal check

RAIPUR:छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकाॅप्टर सौदे की जांच करवाने पर विचार कर रही है… सीएम भूपेश बघेल ने इस बात के संकेत दिए… सीएम ने कहा कि हेलिकाॅप्टर सौदे की जांच की मांग अगर आती है, तो उसपर विचार किया जाएगा… बस्तर रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री से हेलीकाप्टर खरीदी को लेकर सवाल किया गया था… आपको बता दें कि रायपुर के स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट पर 12 मई 2022 को प्रदेश सरकार का हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया था… इस घटना में दो विमान चालकों की मौत हुई थी… 15 साल पहले 2007 में अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर को खरीदा गया था… बताया जा रहा है कि 16 साल पुराना ये हैलीकॉप्टर टेक्निकल फॉल्ट के कारण खतरे की घंटी बन चुका था… और पहले भी कई बार उड़ान के दौरान हैलीकॉप्टर में खराबी सामने आई थी… रमन सिंह के कार्यकाल में हुई हेलीकॉप्टर खरीदी के मामले की जांच की मांग सामाजिक कार्यकर्ता कर रहे हैं… वहीं हेलीकाप्टर के क्रैश होने के बाद फिर से अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर को लेकर सवाल उठ रहे हैं…

देखें वीडियो-

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर विवाद-CG AgustaWestland deal check
BJP सरकार ने खरीदा था अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर
2007 में 65.70 लाख डॉलर में खरीदा था हेलीकॉप्टर
61 लाख डॉलर में फाइनल डील के बाद भी बढ़े रेट में खरीदा था
नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ने उठाए थे सवाल
हेलीकॉप्टर के रेट और गुणवत्ता पर उठे थे सवाल
वित्तीय नुकसान और खास किस्म एवं मॉडल के हेलीकॉप्टर के टेंडर पर आपत्ति
यही हेलीकॉप्टर झारखंड सरकार ने 55.91 लाख डॉलर में खरीदा था

इन बिंदुओं पर जांच की मांग-CG AgustaWestland deal check
हेलीकॉप्टर खरीदी के लिए टेंडर प्रक्रिया की जांच
निविदाकारों के आपसी संबंध और व्यावसायिक लेनदेन की जांच
अन्य राज्यों में हेलीकॉप्टर खरीदी की दर की भी जांच
अन्य कंपनी के हेलिकॉप्टर निर्माताओं को निविदा में भाग लेने से रोकने
खरीदी में तत्कालीन सीएम रमन सिंह और उनके कार्यालन की भूमिका
अगस्ता वेस्टलैंड की पृष्ठभूमि और एविएशन सेक्टर में अनुभव की जांच
स्पेसिफिक मॉडल खरीदने के लिए क्या कोई समिति बनी थी?

विस्तार से-CG AgustaWestland deal check

छत्तीसगढ़ सरकार 15 साल पहले खरीदे गए अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदे की जांच करा सकती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने खुद इसके संकेत दिए हैं। सोमवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, अगर इस तरह की मांग आती है तो विचार किया जाएगा।एक दिन पहले ही कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जन संचार विश्वविद्यालय में कबीर शोध पीठ के अध्यक्ष कुणाल शुक्ला और RTI एक्टिविस्ट अभिषेक प्रताप सिंह ने खरीदी प्रक्रिया को संदिग्ध बताते हुए जांच की मांग उठाई थी। कुणाल और अभिषेक का कहना है कि यह आशंका जताई जाती रही है कि अगस्ता हेलिकॉप्टर सरकारी खरीदी में घोटाला हुआ है। यह पैसा पनामा की किसी शेल कंपनी के खाते में जमा किया गया है।दोनों ने अभी तक औपचारिक शिकायत किसी प्राधिकारी को नहीं दी है। बताया जा रहा है, एक-दो दिन में यह मांग संबंधित अधिकारियों को लिखित में दी जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 26 मई को बस्तर दौरे का यह चरण पूरा कर वापस लौटने वाले हैं। उसके बाद हेलीकाप्टर दुर्घटना वाले मुद्दे पर अधिकारियों के साथ चर्चा होनी है। संभावना जताई जा रही है कि उसी समय इस मामले की जांच संबंधी आदेश दिए जा सकते हैं।

रमन सिंह से अभिषेक सिंह तक आया है नाम, जांच नहीं हुई

तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अक्टूबर 2007 में अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीदा था। इसके लिए 65 लाख 70हजार अमेरिकी डॉलर की बड़ी कीमत अदा की गई। इस सौदे पर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक ने सवाल उठाए। कहा गया, खरीदी प्रक्रिया में एक स्टैंडर्ड मॉडल के लिए ग्लोबल टेंडर निकाला गया। यह सही नहीं था। यह भी सवाल उठा कि ऐसा ही हेलिकॉप्टर झारखंड सरकार ने 55 लाख 91 हजार अमेरिकी डॉलर में खरीदा था। यह भी बात आई कि सरकार ने कंपनी के साथ 61 लाख डॉलर में बातचीत तय कर ली थी, लेकिन अचानक ही बढ़ी हुई कीमत पर खरीदी कर ली गई। दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का आरोप था, खरीदी से मिली दलाली और रिश्वत की रकम पनामा में अभिषेक सिंह के नाम से संचालित एक फर्जी कंपनी के खाते में जमा कराया गया था। तमाम हंगामे के बाद भी राज्य अथवा केंद्र सरकार ने इसकी जांच के आदेश नहीं दिए थे।

विमानन विभाग ने हेलीकॉप्टर का बीमा क्लेम किया

इस बीच राज्य सरकार के विमानन विभाग ने दुर्घटनाग्रस्त हेलिकॉप्टर के लिए बीमे का दावा कर दिया है। सरकार ने इस हेलिकॉप्टर के लिए ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी से बीमा कराया था। अब कुल 28 करोड़ रुपए का दावा भेजा गया है। इसमें हेलिकॉप्टर का बीमा 26 करोड़ रुपया और दो पायलटों की मौत का एक-एक करोड़ रुपये का दावा है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password