Budh Shukra Surya yuti 2022 : वृश्चिक राशि में आकर एक साथ बैठ गए ये तीन ग्रह, क्या आपके लिए होंगे शुभ

Budh Shukra Surya yuti 2022 : वृश्चिक राशि में आकर एक साथ बैठ गए ये तीन ग्रह, क्या आपके लिए होंगे शुभ

नई दिल्ली। Budh Shukra Surya yuti 2022 अभी तक तुला में चल रहे बुध 13 नवंबर को वृश्चिक राशि vrishchik में प्रवेश कर चुके हैं। budh gochar 2022 आपको बता दें इसके पहले 11 नवंबर शुक्रवार को शुक्र भी वृश्चिक राशि में प्रवेश कर करने के बाद इन्होंने शुक्र के साथ मिलकर बुधादित्य योग बना लिया है। इसके बाद 17 नवंबर को सूर्य के इसमें प्रवेश करने पर तीन ग्रहों के एक राशि में होने से त्रिग्रही बन गया है।

क्या कहता है ज्योतिष का गणित — Budh Gochar 2022
आपको बता दें ज्योतिषाचार्य पंडित रामगोविंद शास्त्री के अनुसार बुद्धि का स्वामी बुध 13 नवंबर यानि रविवार को वृश्चिक राशि में प्रवेश कर चुके हैं। जो करीब 2 दिसंबर तक इसी राशि में विद्यमान रहेंगे। आपको बता दें इन दोनों ग्रहों के साथ होते ही साथ ही 17 नवंबर को सूर्य भी वृश्चिक में पहुंच चुके हैं। जिसके साथ ही मांगलिक कार्य शुरू हो जाएंगे। करीब 26 नवंबर से शादियां शुरू हो जाएंगी।

बुध की प्रकृति – Budh Gochar 2022
बुध एक अत्यंत शांत ग्रह है। यह मिथुन राशि और कन्या राशि का स्वामी Budh Gochar 2022 होता है। भ्रमण काल के दौरान जब बुध कन्या राशि में आता है उच्च का कहा जाता है। कन्या राशि 16 से 20 अंश तक यह मूल त्रिकोण में माना जाता है। बुध मिश्रित स्वभाव का ग्रह है। पापी ग्रह के साथ होने पर यह पापी हो जाता है। इसे हरा रंग का माना जाता है।

मिश्रित स्वभाव का ग्रह है बुध —
बुध मिश्रित स्वभाव का ग्रह है। पापी ग्रह के साथ Budh Gochar 2022 होने पर यह पापी हो जाता है। इसे हरा रंग का माना जाता है। किसी जातक का रंग जानने के लिए इसे श्याम वर्ण का माना जाता है। इसमें पृथ्वी तत्व की प्रधानता होती है। वाणी, बुद्धि, चर्म, वात, पित्त और कफ का विश्लेषण बुध ग्रह से किया जाता है। बुध प्रधान लोग अक्सर लेखक, कवि, गणितज्ञ, बैंकर, सीए, चित्रकार, प्रखर वार्ताकार और तर्क से सब को परास्त करने वाले होते हैं। बुध ग्रह के प्रभाव से लोगों को बैंकर, चार्टर्ड अकाउंटेंट, व्यवसायिक बनते देखा गया है। अच्छे व्यवसाय के लिए जातक की कुंडली में बुध का मजबूत होना आवश्यक है। बुध राशि के जातक बहुत अच्छे शिल्पकार भी होते हैं। इस ग्रह को वैश्य जाति का ग्रह कहते हैं। इससे प्रभावित जातकों का भाग्योदय 32 वर्ष पर होता है।

साल 2022 के बचे दिनों में बुध की चाल —

नवंबर — 13 नवंबर
दिसंबर — 2 दिसंबर

Lal Kitab Upay : लाल किताब में लिखी इन बातों पर अमल करने से बदल सकते हैं अपना भाग्य

नोट : इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित है। बंसल न्यूज इसकी पुष्टि नहीं करता। अमल में लाने से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password