उप्र विधान परिषद चुनाव के लिए छोटे दलों के संपर्क में है बसपा : उमा शंकर सिंह -



उप्र विधान परिषद चुनाव के लिए छोटे दलों के संपर्क में है बसपा : उमा शंकर सिंह

बलिया (उप्र),15 जनवरी (भाषा) उत्‍तर प्रदेश विधान सभा में बहुजन समाज पार्टी के उप नेता उमाशंकर सिंह ने शुक्रवार को कहा कि राज्य विधान परिषद चुनाव को लेकर उनकी पार्टी छोटे दलों के संपर्क में है और स्थिति का आकलन कर रही है।

सिंह ने शुक्रवार को यहां पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा के साथ विधान परिषद चुनाव में गठबंधन करने की संभावना से इनकार करते हुए कहा, ”भविष्‍य में भी भाजपा से बसपा का कोई गठबंधन नहीं होगा।”

उन्होंने कहा, ”यदि भाजपा से गठबंधन करना होता, तो मायावती अभी भी उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री होती।”

विधान परिषद चुनाव में बसपा की भूमिका के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ”बसपा के पास पर्याप्त संख्या बल नहीं है। पार्टी स्थिति का आकलन कर रही है और छोटे दलों के सम्पर्क में है।”

उन्होंने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी व छोटे दलों का कोई वजूद नही है ।

बसपा के उपनेता ने दावा करते हुए कहा, ” मुसलमानों को पता है कि उत्तर प्रदेश में बसपा ही भाजपा को शिकस्त देने में सक्षम है।”

उल्‍लेखनीय है कि विधान परिषद की 12 सीटों के लिए 28 जनवरी को मतदान होना है और संख्‍या बल के आधार पर अभी बसपा एक भी सीट जीतने की स्थिति में नहीं है। विधान परिषद की एक सीट के लिए कम से कम 32 विधायकों के वोट की जरूरत है, लेकिन बसपा के विधानसभा में सिर्फ 18 सदस्‍य हैं, जिनमें सात सदस्‍यों को पार्टी पहले ही निलंबित कर चुकी है।

भाषा सं आनन्‍द सुभाष

सुभाष

Share This

उप्र विधान परिषद चुनाव के लिए छोटे दलों के संपर्क में है बसपा : उमा शंकर सिंह

बलिया (उप्र),15 जनवरी (भाषा) उत्‍तर प्रदेश विधान सभा में बहुजन समाज पार्टी के उप नेता उमाशंकर सिंह ने शुक्रवार को कहा कि राज्य विधान परिषद चुनाव को लेकर उनकी पार्टी छोटे दलों के संपर्क में है और स्थिति का आकलन कर रही है।

सिंह ने शुक्रवार को यहां पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा के साथ विधान परिषद चुनाव में गठबंधन करने की संभावना से इनकार करते हुए कहा, ”भविष्‍य में भी भाजपा से बसपा का कोई गठबंधन नहीं होगा।”

उन्होंने कहा, ”यदि भाजपा से गठबंधन करना होता, तो मायावती अभी भी उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री होती।”

विधान परिषद चुनाव में बसपा की भूमिका के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ”बसपा के पास पर्याप्त संख्या बल नहीं है। पार्टी स्थिति का आकलन कर रही है और छोटे दलों के सम्पर्क में है।”

उन्होंने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी व छोटे दलों का कोई वजूद नही है ।

बसपा के उपनेता ने दावा करते हुए कहा, ” मुसलमानों को पता है कि उत्तर प्रदेश में बसपा ही भाजपा को शिकस्त देने में सक्षम है।”

उल्‍लेखनीय है कि विधान परिषद की 12 सीटों के लिए 28 जनवरी को मतदान होना है और संख्‍या बल के आधार पर अभी बसपा एक भी सीट जीतने की स्थिति में नहीं है। विधान परिषद की एक सीट के लिए कम से कम 32 विधायकों के वोट की जरूरत है, लेकिन बसपा के विधानसभा में सिर्फ 18 सदस्‍य हैं, जिनमें सात सदस्‍यों को पार्टी पहले ही निलंबित कर चुकी है।

भाषा सं आनन्‍द सुभाष

सुभाष

Share This

0 Comments

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password