बंगाल चुनाव: जानिए सिंधिया को क्यों बनाया गया स्टार प्रचारक, ये है पीछे की कहानी

Jyotiraditya Scindia

भोपाल। बंगाल में चौथे चरण के मतदान के लिए भाजपा ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का भी नाम शामिल है। यह पहला मौका है जब सिंधिया को भाजपा ने स्टार प्रचारकों (BJP star campaigners) की लिस्ट में शामिल किया है। हालांकि इससे पहले वे मध्य प्रदेश उपचुनाव में पार्टी के लिए प्रचार कर चुके हैं। लेकिन प्रदेश से बाहर भाजपा के लिए प्रचार पहली बार करेंगे।

मप्र के कई नेता स्टार प्रचारक हैं

इस लिस्ट के जारी होने के बाद कई लोग पूछ रहे हैं कि तीन चरण के लिए जारी किए गए स्टार प्रचारकों कि लिस्ट में सिंधिया का नाम नहीं था लेकिन चौथे चरण में उनका नाम क्यों जोड़ा गया, जबकि मप्र प्रदेश के कई नेता पहले से ही बंगाल विधानसभा चुनाव में स्टार प्रचारक हैं। तो चलिए जानते हैं इसके पीछे की कहानी क्या है।

भाजपा की हर चाल रणनीति का हिस्सा

दरअसल, जो लोग सवाल खड़े कर रहे हैं उनका कहना भी ठीक है। क्योंकि बंगाल में पहले से ही मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय राज्यमंत्री प्रहलाद पटेल, गृह मंत्री नरोत्त्म मिश्रा, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्य प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय सहित मप्र के कई दिग्गज प्रचार अभियान में शामिल हो चुके हैं। लेकिन भाजपा के बारे में यह कहा जाता है कि उसकी हर चाल एक सोची समझी रणनीति का हिस्सा होता है। यही कारण है कि चौथे चरण के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया को स्टार प्रचारक बनाया गया है।

भाजपा की ये है रणनीति

गौरतलब है कि बंगाल में चौथे चरण के लिए 47 विधानसभा सीटों पर 10 अप्रैल को मतदान होगा और इनमें से ज्यादातर सीटों पर कांग्रेस और उनके सहयोगियों का दबदबा है। ऐसे में सुत्रों की मानें तो ज्योतिरादित्य सिंधिया बंगाल पुहुंचकर कांग्रेस की नीतियों पर प्रहार कर सकते हैं। साथ ही कांग्रेस की स्थिती पर भी निशाना साधेंगे और खासकर जिस तरह से कांग्रेस में वरिष्ठ नेताओं की उपेक्षा का मुद्दा सामने आया है उसे लेकर तंज कसते नजर आ सकते हैं।

ममता सरकार को पहले से ही घेर रहे हैं कई नेता

मालूम हो कि, ममता सरकार को घेरने के लिए भाजपा पहले से ही कई नेताओं को लगा चुकी है, लेकिन जिन सीटों पर कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों का प्रभाव माना जाता है, वहां भी पार्टी जीत की संभावनाएं तलाश रही है ऐसे में भाजपा मतदाताओं को रिझाने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया का सफल राजनीतिक प्रयोग बंगाल में करना चाहती है।

मतदाताओं को भाजपा देना चाहती है संकेत

इसके साथ ही भाजपा बंगाल के मतदाताओं को ये भी बताना चाहती है कि पार्टी के बाहर से आए नेताओं को भी बीजेपी उतना ही तवज्जो देती है जितना कि पार्टी में पहले से जुड़े एक नेता को देती है। क्योंकि बंगाल में भाजपा के 130 प्रत्याशी ऐसे हैं जो टीएमसी, कांग्रेस या वाम दलों से पार्टी में आए हैं। ऐसे में मतदाता चिंतित ना हो और उसे लगे कि जैसे मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थक विधायक मिलकर शिवराज सरकार को चला रहे हैं, वैसे ही बंगाल में भी सरकार बनने पर काम करेगी और विकास को गति देगी।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password