महिला क्रिकेट को लेकर बीसीसीआई को गंभीर होने की जरूरत: अंजुम

… अमित आनंद…

नयी दिल्ली, 20 दिसंबर (भाषा) महिला टीम की पूर्व कप्तान अंजुम चोपड़ा ने महिला क्रिकेट को लेकर भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) से गंभीर प्रयास करने की गुजारिश करते हुए कहा कि उन्हें खेलने के कम मौका मिलना अच्छे संकेत नहीं हैं। बांग्लादेश में फ्रेचाइजी आधारित घरेलू टी20 टूर्नामेंट में कमेंट्री कर के वापस भारत लौटी अंजुम ने पीटीआई-भाषा से कहा कि महिला क्रिकेट को लेकर बीसीसीआई की ओर से स्पष्टता की कमी है। क्रिकेटर से कमेंटेटर बनी इस पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ‘‘ पुरूष टीम का क्रिकेट दौरा शुरू हो गया। जनवरी (2021) में उनका घरेलू टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली टी20 टूर्नामेंट के साथ शुरू होगा लेकिन महिलाओं के क्रिकेट को लेकर बोर्ड की भविष्य की योजना क्या है इस बारे में कुछ नहीं पता चल पा रहा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हो सकता है बीसीसीआई महिला क्रिकेट को लेकर गंभीरता से सोच रहा हो लेकिन आम जनता के सामने वह बात नहीं आ पा रही है। हमें भी इस बारे में मीडिया के जरिये ही पता चलेगा लेकिन अभी तक तो कोई ऐसी चर्चा नहीं है। महिला टीम के लिए क्या होगा इस बारे में कुछ पता नहीं।’’ भारतीय महिला टीम ने ऑस्ट्रेलिया में इस साल आठ मार्च को टी20 विश्व का फाइनल खेलने के बाद एक भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है। महिला खिलाड़ियों को हालांकि इंडियन प्रीमियर लीग के साथ महिला चैलेंजर टी20 टूर्नामेंट में खेलने का मौका मिला था। इस टूर्नामेंट में तीन टीमों के बीच महज चार मैच ही खेले गये। अंजुम ने कहा कि बीसीसीआई की जिम्मेदारी पुरूष के साथ महिला क्रिकेट को लेकर भी है। भारत के लिए 157 (टेस्ट, एकदिवसीय और टी20 अंतरराष्ट्रीय) मैच खेल चुकी इस पूर्व दिग्गज ने कहा, ‘‘ पुरूषों की तरह महिला टीम का भी विश्व कप है। बीसीसीआई क्रिकेट का बोर्ड है ना कि सिर्फ पुरूष या महिला क्रिकेट का बोर्ड है। कोविड-19 के कारण इंग्लैंड का दौरा पहले ही रद्द हो गया था । उसके बाद दक्षिण अफ्रीका या वेस्टइंडीज दौरे पर जाने की बात चली थी , लेकिन टी20 विश्व कप के स्थगित (2021 से 2022) होने के बाद वह भी ठंडे बस्ते में चला गया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ दुबई में लड़कियों ने महिला चैलेन्जर में खेला लेकिन उसके बाद श्रीलंका का दौरा रद्द या स्थगित हो गया। इसमें कुछ स्पष्टता नहीं है। यह बतौर खिलाड़ी अच्छी बात नहीं । खिलाड़ी एक उम्र तक ही खेलता है और ऐसे में उसका लय में रहना जरूरी है ।’’ भारतीय महिला टीम के कोच डब्ल्यूवी रमन का कार्यकाल दिसंबर में खत्म हो रहा है लेकिन उसे लेकर कोई हलचल नहीं है। अंजुम महिला क्रिकेटरों को अधिक मौके देने की वकालत करते हुए कहा‘‘ बतौर खिलाड़ी सभी का मन करता है कि लगातार क्रिकेट खेलने को मिले। यह अच्छी बात है कि पुरुष टीम का दौरा हो रहा है, होना भी चाहिये। यह भी शानदार है कि उनके लिए घरेलू क्रिकेट शुरु हो रहा है। लेकिन महिला टीम के लिए भी तो कुछ होना चाहिये। ’’ भाषा आनन्द पंतपंत

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password