Bank update: अगर आपका एक से अधिक बैंक में खाता है … तो सावधान हो जाइए, नहीं तो हो सकता है भारी नुकसान

bank

नई दिल्ली। कई लोग नए ऑफर्स और ज्यादा लाभ के चक्कर में कई बैंकों में खाता खुलवा लेते हैं और अक्सर अपने पुराने बैंक खाते को भूल जाते हैं। इस कारण से उनका खाता डॉरमैट हो जाता है। लेकिन परेशानी तब होती है जब कोई फ्रॉड उनके पुराने बैंक अकाउंट के साथ छेड़छाड़ करता है और वे बैंक पहुंचते हैं। यहां उनसे अकाउंट को लेकर कई सवाल पूछे जाते हैं और वे बैठे बिठाए मुसीबत में फंस जाते हैं। ऐसे में अगर आपका भी एक से अधिक बैंकों में खाता है और वह निष्क्रिय हो गया है तो उन्हें बंद करा दीजिए। नहीं तो आने वाले समय में बड़ा नुकसान हो सकता है।

3 महीने तक खाता निष्क्रिय होने पर सेविंग अकाउंट में बदल जाता है

अगर आपका कोई सैलरी अकाउंट है और जॉब चेंज करने के बाद उसमें तीन महीने से सैलरी क्रेडिट नहीं हुई है तो आपका वो खाता सेविंग अकाउंट में बदल जाता है। साथ ही बैंक के नए नियम भी लागू हो जाते हैं। आपको एक सेविंग अकाउंट में न्यूनतम राशि मेनटेन करनी होती है। लेकिन आप अनजाने में इसे मेनटेन नहीं कर पाते। ऐसे में बैंक बचे-खुचे जमा रमक से पेनल्टी के तौर पर पैसे काट लेता है।

मिनिमम बैलेंस के कारण बड़ा अमाउंट बैंकों में ही फंसा रहता है

इसके अलवा अगर आपका कई बैंक में अकाउंट है तो आपको सभी में मिनिमम बैलेंस रखना होता है। यानी एक से ज्यादा अकाउंट है तो आपका बड़ा अमाउंट बैंकों में ही फंसा रहता है। बैंक आपको सालाना इस पर केवल 4% ब्याज देता है। जबकि अगर आप इन पैसों को किसी और जगह लगाते हैं तो आपको बड़ा रिटर्न मिल सकता है।

बैंक लेता है सर्विस चार्ज

अगर आपका कई बैंकों में खाता है तो आपको सर्विस चार्ज भी चुकाना होता है। लेकिन आप सभी बैंकों का इस्तेमाल नहीं कर पाते। ऐसे में आप बिना सर्विस के भारी भरकम पैसे चार्जेस के तौर पर गवां देते हैं।

लोन लेने में आ सकती है परेशानी

इतना ही नहीं अगर आपका एक से अधिक बैंक खाता निष्क्रिय है तो आपके क्रेडिट स्कोर पर भी इसका असर पड़ता है। आपके खाते में न्यूनतम बैलेंस मेनटेन नहीं होने से क्रेडिट स्कोर खराब हो जाता है और आपको लोन लेने में परेशानी आ सकती है।

निष्क्रय खाता बंद करवाने के लिए क्या करना होगा

अगर आप इस खबर को पढ़कर अपना निष्क्रय खाता बंद करवाना चाहते हैं, तो आप इन चीजों का भी ध्यान रखना होगा। सबसे पहले आपको डी-लिंक फॉर्म भरना पड़ सकता है। आप पहले अपने बैंक ब्रांच में जाएं। वहां आपको अकाउंट क्लोजर फॉर्म दिया जाएगा। इसमें आपको खाता बंद करने की वजह बताना होगा। अगर आपका खाता ज्वाइंट अकाउंट है तो बंद करवाने के लिए फॉर्म पर सभी खाताधारकों का हस्ताक्षर जरूरी है। इसके अलावा आपको एक और दूसरा फॉर्म भी भरना होगा। इसमें आपको उस खाते की जानकारी देनी होगी, जिसमें आप बंद होने वाले अकाउंट में बचा पैसा ट्रांसफर कराना चाहते हैं।

1 साल के अंदर अकाउंट बंद कराते हैं तो चार्ज देना होगा

वहीं अगर आप खाता खुलने के 14 दिन के अंदर उसे बंद कराते हैं तो आपको कोई चार्ज नहीं देना होगा। लेकिन 14 दिन के बाद और 1 साल के अंदर उसे बंद करना चाहते हैं तो आपको क्लोजर चार्ज देना होगा। जबकि साल से ज्यादा पुराने खाते को बंद कराने के लिए कोई चार्ज नहीं लगता है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password