Ayushman Bharat Yojna : आयुष्मान में फर्जीवाड़ा करने वाले अस्पतालों पर होगा एक्शन, ये अस्पताल हैं फर्जीवाडे में शामिल

Ayushman Bharat Yojna : आयुष्मान में फर्जीवाड़ा करने वाले अस्पतालों पर होगा एक्शन, ये अस्पताल हैं फर्जीवाडे में शामिल

भोपाल। शहर के निजी अस्पतालों में आयुष्मान Ayushman Bharat Yojna Farjivada भारत योजना को लेकर हुए फर्जीवाड़े mp breaking news को लेकर सीएम शिवराज सिंह bhopal news का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि आयुष्मान भारत योजना में किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा बर्दाश्त नहीं होगा। योजना में बेहतर कार्य करें, जिससे मरीजों को उपचार कराने में कोई असुविधा नहीं हो। उन्होंने कहा कि योजना में फर्जीवाड़ा करने वालों को जेल भेजने की कार्रवाई होनी चाहिए।

गौरतलब आयुष्मान योजना में इम्पैनल प्रायवेट हॉस्पिटल्स में चल रहे फर्जीवाडे़ को पकड़ने के लिए स्टेट हेल्थ एजेंसी की अलग-अलग 20 टीमों ने भोपाल के करीब 47 निजी अस्पतालों पर छापामार कार्रवाई की थी। मंगलवार देर रात तक चली कार्रवाई के दौरान SHA द्वारा बनाई गई डॉक्टरों की टीमों ने करीब 18 अस्पतालों में फर्जीवाड़ा पकड़ा था। जिसके बाद सीएम एक्शन में आए थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान निवास कार्यालय में आयुष्मान भारत योजना की समीक्षा बैठक ले रहे थे। लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री प्रभुराम चौधरी मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी, संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन प्रियंका दास सहित अधिकारी उपस्थित थे। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान बैठक में वर्चुअली शामिल हुए।
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना में फर्जीवाड़ा असहनीय है। योजना में घोटाला नहीं चलने देंगे। यह मरीजों और सरकार के साथ धोखा है। घोटाला करने वालों की गिरफ्तारी के साथ उनकी अन्य गतिविधियों की जाँच भी करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि निजी अस्पतालों की स्वास्थ्य विभाग द्वारा दल बनाकर जाँच कराई जाए। संदिग्ध पाये गए अस्पतालों में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि नहीं दी जाएगी। कॉल सेंटर एक्टिव रहें। मरीजों से पूछताछ करें कि वे भर्ती हैं या नहीं। प्रदेश के 27 अस्पताल में कमियाँ सामने आई हैं, जिन पर कड़ी कार्रवाई करें और आगे ऐसा न हो।
संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन श्रीमती प्रियंका दास ने बताया कि आयुष्मान में संबद्ध अस्पतालों में भर्ती मरीजों की चिकित्सकीय गुणवत्ता के लिए औचक निरीक्षण कराया गया। अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या की जाँच की गई। ऑडिट इंस्पेक्शन टीम द्वारा मरीजों से अतिरिक्त राशि तो नहीं ली जा रही है। जाँच की गई कि चिकित्सालयों द्वारा बीमारी के अनुसार ही उपचार उपलब्ध कराया गया है या नहीं और उसी उपचार की राशि सरकार से क्लेम की गई है या नहीं।
बताया गया कि उपचार में गुणवत्ता का ध्यान रखे जाने का भी परीक्षण कराया गया। जाँच में पाया गया कि कुछ अस्पतालों द्वारा फर्जी मरीजों को भर्ती कर फर्जी दस्तावेज पोर्टल पर समिट किए गए। निरीक्षण टीम द्वारा ऐसे सभी प्रकरणों के क्रियान्वयन में राज्य शासन एफआईआर एवं उचित विधिक कार्रवाई कराई गई। ऐसे समस्त अस्पतालों को जो योजना का दुरूपयोग कर रहे हैं उन्हें योजना से असम्बद्ध करने की कार्रवाई की जा रही है। मरीजों को नि:शुल्क उपचार न देते हुए उनसे अतिरिक्त राशि की मांग की जाने संबंधी प्रकरणों में तीन गुना अतिरिक्त अर्थदण्ड अधिरोपित किया जा रहा है। अस्पतालों की जाँच का कार्य निरंतर जारी रहेगा। मरीजों से इलाज के दौरान और बाद में फीडबैक लिया जा रहा है। आयुष्मान भारत योजना, मध्यप्रदेश द्वारा स्व-प्रेरणा से अभी तक 12 जिलों में प्रकरणों का परीक्षण कर संदिग्ध 84 चिकित्सालय की सूक्ष्म जाँच एवं ऑडिट कराया गया है, जिसकी प्रारंभिक जाँच में 27 अस्पतालों में अनियमितता परिलक्षित हुई है। इन पर कार्रवाई की जा रही है।

किस अस्पताल पर क्या कार्रवाई

  • लोटस हॉस्पिटल — जनरल मेडिसिन स्पेलिटी सस्पेंड करके पेनाल्टी लगाई जाएगी
  • नवजीवन अस्पताल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • अनंतश्री अस्पताल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • अपेक्स हॉस्पिटल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • आयुष्मान भारत अस्पताल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • गुरू आशीष हॉस्पिटल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • पीबीजीएम हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर —संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • आयुष्मान अस्पताल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • RR अस्पताल — जनरल मेडिसिन स्पेलिटी सस्पेंड करके पेनाल्टी लगाई जाएगी।
  • नवोदय केंसर अस्पताल — जनरल मेडिसिन स्पेलिटी सस्पेंड करके पेनाल्टी लगाई जाएगी।
  • नवोदय हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर — जनरल मेडिसिन स्पेलिटी सस्पेंड करके पेनाल्टी लगाई जाएगी।
  • भोपाल मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • राजदीप अस्पताल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • किसनानी अस्पताल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • सर्वोत्तम अस्पताल — जनरल मेडिसिन स्पेलिटी सस्पेंड करके पेनाल्टी लगाई जाएगी।
  • आधार हॉस्पिटल मल्टी स्पेशलिटी यूनिट — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • VCH हॉस्पिटल — संबद्धता खत्म की जाएगी।
  • जीवन श्री अस्पताल — इम्पैनलमेंट खत्म होगा।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password