ATM LIMIT NEWS: एटीएम से 4 बार से अधिक पैसे निकालने पर लगेगा 173 रुपये का चार्ज? जानिए दावा!

ATM LIMIT NEWS: एटीएम से 4 बार से अधिक पैसे निकालने पर लगेगा 173 रुपये का चार्ज? जानिए दावा!

ATM LIMIT NEWS

ATM LIMIT NEWS:इन दिनो सोशल मीडिया और व्हाट्सऐप पर एक मैसेज जमकर वायरल हो रहा है। मैसेज में लिखा गया है कि अगर आप एटीएम से 4 बार से अधिक पैसे निकालेंगे तो 173 रुपये का चार्ज देना होगा। यह राशि आपके बैंक खाते से काट ली जाएगी।इस वायरल मैसेज में लोगों को मैसेज के जरिए ठोस दावा किया जा रहा है कि, 4 बार से अधिक नकद निकासी करने पर 150 रुपये का टैक्स और 23 रुपये का सर्विस चार्ज वसूला जाएगा। कुल 173 रुपये ग्राहक के बैंक खाते से काटे जाएंगे, अगर महीने में 4 दफे से अधिक बार कैश विड्रॉल किया जाएगा। इस मैसेज के बाद कई लोग अचंभे में हैं। लोग सोच रहे हैं कि अभी तक 20-25 रुपये का चार्ज सुना था, लेकिन ये तो 173 रुपये देने की बात हो रही है।

वायरल मैसेज में लिखा है, एटीएम से 4 बार से अधिक पैसा निकालने पर 150 रुपये टैक्स और 23 रुपये सर्विस चार्ज मिलाकर कुल 173 रुपये कटेंगे। एक और तोहफा…1 जून से बैंक में 4 ट्रांजैक्शन के बाद हर ट्रांजैक्शन पर 150 रुपये चार्ज लगेगा। मैसेज में लिखा गया है कि सरकार कमाई से लेकर बचत पर भी टैक्स लगा रही है। साथ ही, इस मैसेज को फॉरवर्ड करने का आग्रह किया गया है।

क्या है वायरल मैसेज

सरकार की तरफ से प्रेस इनफॉरमेशन ब्यूरो ने इस वायरल मैसेज का फैक्ट चेक किया है। फैक्ट चेक में कहा गया है कि यह मैसेज फर्जी है और इस पर भरोसा न करें। असल नियम के मुताबिक, अपने बैंक के ATM से हर माह 5 मुफ्त ट्रांजैक्शन किए जा सकते हैं। इसके बाद अधिकतम 21 रुपये प्रति ट्रांजैक्शन या कोई टैक्स होने पर वह अलग से देना होगा। फिलहाल यही नियम चल रहा है और 173 रुपये जैसा कोई भी चार्ज कोई भी बैंक अपने ग्राहकों से नहीं वसूलता।

क्या है रिजर्व बैंक का नियम

रिजर्व बैंक का सर्कुलर इस बारे में साफ-साफ कहता है कि ग्राहक हर महीने अपने बैंक के एटीएम से 5 फ्री फाइनेंशियल और नॉन-फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। ग्राहक मेट्रो शहरों में अन्य बैंक के एटीएम से और गैर-मेट्रो शहरों में पांच मुफ्त ट्रांजैक्शन के लिए पात्र हैं। मुफ्त लेनदेन से अलग, आरबीआई ने पहले ग्राहक शुल्क पर 20 रुपये प्रति लेनदेन की सीमा तय की थी, जिसका अर्थ है कि बैंक मासिक सीमा से अधिक के हर लेनदेन के लिए 20 रुपये से अधिक चार्ज नहीं ले सकते हैं।

फ्री ट्रांजैक्शन की लिमिट

एटीएम लगाने, उसे चलाने और मेंटीनेंस पर होने वाले खर्च में बढ़ोतरी को देखते हुए रिजर्व बैंक ने फ्री ट्रांजैक्शन का नियम जारी किया। इसका एक मकसद यह भी था कि लोग कैश कम निकालें और डिजिटल ट्रांजैक्शन जैसे कि यूपआई आदि पर फोकस करें। रिजर्व बैंक समय-समय पर ट्रांजैक्शन फी में बदलाव करता है। आरबीआई का सर्कुलर कहता है, बैंकों की इंटरचेंज फी में बढ़ोतरी और अन्य खर्चों को देखते हुए बैंकों को ट्रांजैक्शन फी बढ़ाने की अनुमति दी गई। इसका अर्थ हुआ कि कोई भी बैंक फ्री लिमिट से अधिक एक ट्रांजैक्शन के लिए 21 रुपये से अधिक नहीं ले सकता। इस तरह वायरल मैसेज में 173 रुपये वसूली का दावा पूरी तरह से फर्जी है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password