Ashneer Grover vs BharatPe: अपनी ही कंपनी से अशनीर ग्रोवर को लेनी पड़ी रूख्सती, दो महीने से चल रहा था ड्रामा

बेंगलूरू। अशनीर ग्रोवर (Ashneer Grover) जोकि इन दिनों एक टीवी चैनल पर आने वाले शो में शार्क की भूमिका में नजर आते हैं। उन्हें अपनी ही बनाई हुई फिनटेक कंपनी भारतपे (BharatPe) से इस्तीफा देना पड़ा है। बीते दो महिने से कंपनी और अशनीर के बीच यह ड्रामा जारी था, जिसमें दोनों पक्ष एक दूसरे पर गंभीर आरोप—प्रत्यारोप लगा रहे थे। दरअसल साल की शुरूआत में ही एक ऑडियो क्लिप वायरल हुआ था, जिसके चलते अशनीर की मुश्किलें बढ़ गई थी और इसी के चलते अशनीर को अपनी ही बनाई कंपनी से बाहर होना पड़ा है।

ऑडियो क्लिप के कारण मामले ने पकड़ा तूल

2022 की शुरूआत में ही एक ऑडियो क्लिप वायरल हुआ था। इस ऑडियो में दावा किया गया था कि अशनीर कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank) के कर्मचारी से फोन पर बात करते हुए बेहद अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल कर रहे थे। जिसके बाद से इस पूरे मामले ने तूल पकड़ लिया और यह मामला इतना आगे बढ़ गया कि उन्हें अपनी ही बनाई हुई कंपनी से बाहर का रास्ता देखना पड़ा।
उन्होंने ईमेल में लिखा, ‘मैं आज भारी मन से लिख रहा हूं कि जो कंपनी मैंने बनाई, मुझे उसे अलविदा कहने के लिए मजबूर किया जा रहा है। आज मैं गर्व से कह रहा हूं कि यह कंपनी फिनटेक की दुनिया की लीडर है।’

लगाए गए आधारहीन आरोप: ग्रोवर

इस पूरे मामले पर अशनीर ग्रोवर का कहना है कि बदकिस्मती से 2022 की शुरुआत से ही मेरे और मेरे परिवार पर कई आधारहीन और गंभीर आरोप लगाए गए हैं। यह आरोप उन लोगों द्वारा लगाए गए हैं जो न केवल मेरी छवि को बल्कि कंपनी के सम्मान को भी नुकसान पहुंचाना चाहते हैं। उन्होंने आगे कहा कि एक समय वह भारतीय उद्यमिता का चेहरा थे, लेकिन वर्तमान में उन्हें अकेले ही अपने इंवेस्टर्स व मैनेजमेंट के खिलाफ लड़ना पड़ रहा है। दुर्भाग्य से इस लड़ाई में मैनेजमेंट अपनी साख खो चुका है।

गुलामों जैसा व्यवहार हुआ: अशनीर

गौरतलब है कि अशनीर ग्रोवर ने फिनटेक कंपनी भारतपे (BharatPe) के कामकाज की समीक्षा के लिए Singapore International Arbitration Centre (SIAC) में अपील की थी, हालांकि यह अपील SIAC ने बीते हफ्ते खारिज कर दी। अशनीर ग्रोवर ने अपना त्याग पत्र देते हुए कंपनी के बोर्ड पर भी कई आरोप लगाए, उन्होंने लिखा कि वे सच्चाई से कोसों दूर हैं और बिजनेस को भूल चुके हैं। उन्होंने कहा कि कंपनी के निवेशक और बोर्ड फाउंडर्स के साथ गुलामों जैसा व्यवहार करता है।

 

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password