Amarnath Yatra: आज तीर्थयात्रियों के पहले जत्थे को किया रवाना,

Amarnath Yatra: आज तीर्थयात्रियों के पहले जत्थे को किया रवाना, शुरू हो जाएगी बड़ी यात्रा

Amarnath Yatra: इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है जहां पर आज 29 जून को जम्मू-कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा ने जम्मू आधार शिविर से अमरनाथ यात्रा तीर्थयात्रियों के पहले जत्थे को रवाना किया। अमरनाथ यात्रा 30 जून से शुरू होगी।

दो साल का इंतजार खत्म

आपको बताते चलें कि, अमरनाथ यात्रा के लिए तीर्थयात्रियों का पहला जत्था उधमपुर पहुंचा। उपायुक्त कृतिका ज्योत्सना ने बताया,“हमने ज़िले को 5 ज़ोन में बांटा है। हमसे 28 लंगरों ने अनुमति ली है। यात्रा में किसी तरह की परेशानी और राजमार्ग बंद न हो उसके लिए लोगों और मशीनों की व्यवस्था की है।”

 

बाबा बमभोले के गूंजेगे जयकारे

पवित्र गुफा में बाबा बर्फानी के दर्शन के लिये 43 दिवसीय तीर्थयात्रा बृहस्पतिवार को कश्मीर के दोनों आधार शिविरों से शुरू होगी और 11 अगस्त को रक्षा बंधन के अवसर पर इसका समापन होगा। कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण दो साल के अंतराल के बाद वार्षिक अमरनाथ यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। ‘बम बम भोले’ और ‘जय बर्फानी बाबा की’ के नारे लगाते हुए तीर्थयात्री कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच वाहनों में भगवती नगर आधार शिविर से रवाना हुए।

हरी झंडी देकर किया रवाना

जम्मू के महापौर चंदर मोहन गुप्ता, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता देवेंद्र राणा, मुख्य सचिव डॉ. अरुण कुमार मेहता सहित कई राजनेता और अधिकारियों के साथ, उपराज्यपाल ने तीर्थयात्रियों को कश्मीर के दोनों आधार शिविरों तक ले जाने वाली बसों और अन्य वाहनों के काफिले को झंडी दिखाकर रवाना किया। जम्मू के महापौर चंद्र मोहन गुप्ता ने पत्रकारों से कहा, ‘‘जम्मू से तीर्थयात्रा शुरू हो गई है। उपराज्यपाल द्वारा हरी झंडी दिखाकर काफिले को यहां से कश्मीर के लिए रवाना किया गया है।’’ उन्होंने बताया कि तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए सभी प्रबंध किए गए हैं।

भगवान शिव के दर्शन का जुनून

राजस्थान के बाड़मेर से आए एक तीर्थयात्री दलीप सिंह ने कहा, ‘‘ कोई डर नहीं है, कोई खतरा नहीं है, केवल पवित्र गुफा तक जल्दी पहुंचने और भगवान शिव के दर्शन करने का जुनून है।’’ कानपुर के तीर्थयात्रियों के एक बड़े समूह का हिस्सा आशा देवी ने कहा, ‘‘हम पूरे देश के लोगों से यहां आने और पूजा करने का आग्रह करते हैं।’’ अधिकारियों ने बताया कि जम्मू शहर में 5,000 से अधिक सुरक्षाकर्मियों की तैनाती के साथ आधार शिविरों, ठहरने के स्थान, पंजीकरण और ‘टोकन’ केंद्रों पर तथा उसके आसपास बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। यात्रा 30 जून को दक्षिण कश्मीर के पहलगाम में पारंपरिक 48 किलोमीटर के नुनवान मार्ग और मध्य कश्मीर के गांदरबल में 14 किलोमीटर के बालटाल मार्ग से शुरू होगी। अधिकारियों के अनुसार, वार्षिक अमरनाथ यात्रा के लिए अभी तक तीन लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने पंजीकरण कराया है

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password