मध्यप्रदेश में भोपाल को छोड़कर प्रदेश के सभी कोविड-19 केयर सेंटर बंद, विपक्ष ने सरकार की आलोचना की -



मध्यप्रदेश में भोपाल को छोड़कर प्रदेश के सभी कोविड-19 केयर सेंटर बंद, विपक्ष ने सरकार की आलोचना की

भोपाल, तीन जनवरी (भाषा) मध्यप्रदेश सरकार ने भोपाल के एक कोविड-19 केयर सेंटर को छोड़कर प्रदेश के ऐसे सभी केन्द्रों को बंद कर दिया है।

इस पर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने सरकार की आलोचना की है, जबकि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सरकार के इस निर्णय को सही ठहराया है।

ये केन्द्र लक्षण रहित या बहुत हल्के लक्षणों वाले कोविड-19 के मरीजों के ठहरने एवं उपचार के लिए स्कूलों, कॉलेजों एवं लोगों के निजी भवनों में स्थापित किए गये थे।

प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग की अतिरिक्त निदेशक डॉ. वीना सिन्हा ने रविवार को बताया कि भोपाल के कोविड-19 केयर सेंटर को छोड़कर प्रदेश के समस्त कोविड केयर सेंटरों को बंद करने का यह आदेश 31 दिसंबर को राज्य के समस्त कलेक्टरों और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को जारी किया गया था।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में अब केवल एक ही कोविड-19 केयर सेंटर चल रहा है और वह भोपाल में है।

सिन्हा ने बताया कि प्रदेश में अब कोविड-19 के मरीज अपने ही घरों में पृथक-वास पर रह रहे हैं। इसलिए अब इनकी जरूरत नहीं रह गई है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की वर्तमान स्थिति तथा अधिकतर कोविड केयर सेंटर में बहुत ही कम लोग आने के मद्देनजर नीतिगत निर्णय लेते हुए इन्हें बंद किया गया है।

सिन्हा ने बताया कि भविष्य में कोविड-19 के मरीजों की संख्या में वृद्धि होने पर जिलों द्वारा कोविड केयर सेंटर खोले जाने की विशेष अनुमति राज्य स्तर से प्राप्त की जाएगी।

इस आदेश के आने के बाद मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए रविवार को ट्वीट किया, ‘‘प्रदेश में कोरोना से मौतें जारी। संक्रमण का आँकड़ा प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। (मध्यप्रदेश) विधानसभा का सत्र तक कोरोना के भय से निरस्त और शिवराज सरकार ने भोपाल को छोड़कर प्रदेश के सभी कोविड केयर सेंटर बंद किये।’’

कमलनाथ के इस ट्वीट के जवाब में मुख्यमंत्री चौहान ने यहां मीडिया से कहा, ‘‘कमलनाथ जी का काम ट्वीट करना रह गया है। क्या वह चाहते हैं कि कोविड केयर सेंटर हमेशा ही खुले रहें। कोविड पूरी तरह से नियंत्रण में है। पॉजिटिव मरीजों की संख्या काफी कम हुई है। जो कोरोना पॉजिटिव होते हैं उनके इलाज की पूरी व्यवस्था है। घर में पृथक-वास की भी व्यवस्था है।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘कभी जरूरत पड़ेगी तो फिर खोल देंगे। लेकिन खोलने के लिए खोलना, इसका कोई औचित्य नहीं है।’’ चौहान ने कहा, ‘‘कोरोना टीका का भोपाल में सफलतापूर्वक पूर्वाभ्यास (ड्राइ रन) हुआ है। कोविड का टीक लगाने की पूरी तैयारी मध्यप्रदेश सरकार की हैं। व्यवस्थाएं ठीक से बना दी गई हैं।’’

मध्यप्रदेश में शनिवार तक इस वायरस से कुल 2,43,302 लोग संक्रमित पाये गये हैं, जिनमें से 3,627 लोगों की मौत हो गयी है और 9,089 मरीज़ों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। बाकी मरीज स्वस्थ होकर घर चले गये हैं।

भाषा रावत अर्पणा

अर्पणा

Share This

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password