Scindia: केंद्रीय मंत्री बनने के बाद सिंधिया को भेजा जाएगा लगान, 6 लाख किसान भेजेंगे अनाज

भोपाल। भाजपा के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी कैबिनेट में शामिल कर लिया है। सिंधिया ने बुधवार शाम को कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली है। सिंधिया को नागरिक उड्डयन मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बता दें कि सिंधिया हाल ही में मालवा दौरे पर आए थे। सिंधिया ने उज्जैन पहुंचकर बाबा महाकाल के दर्शन किए थे कि उनके लिए दिल्ली से बुलाया आ गया है। सिंधिया की छवि भी प्रदेश में उभर रही है।

इसी को देखते हुए अब कांग्रेस भी एक्शन मोड में दिख रही है। अब कांग्रेस ने सिंधिया को महाराज मानकर एक मुट्ठी अनाज का लगान देने का फैसला लिया है। इसकी शुरुआत जिलों से की जाएगी। इसके तहत प्रदेश के करीब 6 लाख किसानों से 1-1 मुट्ठी अनाज लिया जाएगा और उसे ज्योतिरादित्य सिंधिया के ग्वालियर स्थित निवास पर लगान के रूप में भेजा जाएगा। दरअसल कांग्रेस का यह फैसला सिंधिया के मालवा दौरे के बाद आया है। सिंधिया ने अपने मालवा दौरे पर कहा था कि उनके पूर्वजों का मालवा से पुराना नाता रहा है।

पूर्वजों का किया था जिक्र…
सिंधिया ने कहा था कि यहां हमारे पूर्वज आते थे और हर स्थान पर कैंप लगाते थे साथ ही आमजन से मिलना जुलना करते थे। अब कांग्रेस ने इसी को लेकर एक आंदोलन खड़ा करने का फैसला लिया है। कांग्रेस ने कहा कि सिंधिया के पूर्वज यहां पहले लगान बसूलने आते थे। अब ऐसे समय में बिजली की दरें आसमान छू रही हैं। किसानों की बीज की उपलब्धता सुचारू रूप से नहीं है। किसानों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

वहीं सरकार जबरन कृषि सुधार बिल को अन्नदाता पर लाद रही है। इसलिए अब एक मुठ्ठी अनाज आंदोलन चलाया जाएगा। कांग्रेस के विधायक और जिलाध्यक्ष हर्षविजय गहलोत ने कहा कि सिंधिया के पूर्वज मालवा में लगान बसूलने आते थे। अब किसानों के पास आमदनी का ही संकट खड़ा हो गया है। इसी को देखते हुए हम एक मुट्ठी अनाज आंदोलन शुरू कर रहे हैं। इस आंदोलन के तहत प्रदेश के करीब 6 लाख किसान अपने घर से 1-1 मुट्ठी अनाज या फिर सोयाबीन सिंधिया के ग्वालियर स्थित निवास पर भेजेंगे। कांग्रेस नेता ने कहा कि शायद लगान मिलने के बाद किसानों को सस्ती बिजली और बीजों की उपलब्धता हो सके।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password