महामारी के बीच एहतियातों के साथ शुरू हुआ 51वां आईएफएफआई, डिजिटल तरीके से शामिल हुए फिल्मी सितारे -



महामारी के बीच एहतियातों के साथ शुरू हुआ 51वां आईएफएफआई, डिजिटल तरीके से शामिल हुए फिल्मी सितारे

(जस्टिन राव)

पणजी, 16 जनवरी (भाषा) इस साल 51वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के उद्घाटन समारोह में यहां चमक-धमक और ढेर सारे सितारों की मौजूदगी की जगह मास्क और सैनिटाइजर के उपयोग के साथ लोगों की सीमित उपस्थिति थी।

पिछले साल कोरोना वायरस महामारी की वजह से आईएफएफआई अपने समय पर नहीं हो सका और इसे नवंबर से दो महीने के लिए टाल दिया गया।

इस फिल्म समारोह में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फिल्मों का प्रदर्शन किया जाता है तथा दुनियाभर से कलाकार यहां आते हैं और नौ दिन के आयोजन में विभिन्न चर्चा सत्रों में भाग लेते हैं।

इस बार महोत्सव ‘मिश्रित’ (हाइब्रिड) तरीके से आयोजित किया जा रहा है जिसमें प्रतिभागी डिजिटल तरीके से भाग ले सकते हैं और फिल्में देख सकते हैं।

पिछले फिल्म महोत्सवों में अमिताभ बच्चन, रजनीकांत, शाहरुख खान, कैटरीना कैफ और करण जौहर जैसे सितारे आते रहे हैं, वहीं इस बार इस लिहाज से सितारा हस्तियों की उपस्थिति अपेक्षाकृत कम थी।

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी इनडोर स्टेडियम में आयोजित उद्घाटन समारोह में 250 से अधिक लोगों को शामिल होने की अनुमति नहीं थी।

फिल्म बिरादरी से समारोह में शामिल होने वालों में जानेमाने कन्नड अभिनेता सुदीप, अभिनेत्री टिस्का चोपड़ा, अभिनेता मनोज जोशी और फिल्मकार प्रियदर्शन शामिल रहे।

रणवीर सिंह, माधुरी दीक्षित, अनिल कपूर, विकी कौशल, विद्या बालन, अनुपम खेर, सिद्धांत चतुर्वेदी और अपारशक्ति खुराना समेत अनेक अदाकारों ने आईएफएफआई के लिए डिजिटल तरीके से अपनी शुभकामनाएं प्रेषित कीं।

मलयालम अदाकार मोहन लाल ने एक वीडियो में कहा कि यह बिल्कुल साफ है कि इंटरनेट लोगों के अनुभव और फिल्में देखने के तरीके को बदल रहा है।

समारोह के मुख्य अतिथि सुदीप ने कहा कि सिनेमा में बांधने की अनुपम क्षमता है जो दुनियाभर के लोगों में परिलक्षित होती है।

समारोह में केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और भारत में बांग्लादेश के उच्चायुक्त मोहम्मद इमरान ने भी शिरकत की। बांग्लादेश इस बार के फिल्म महोत्सव का ‘केन्द्र देश’ है।

जावडेकर ने उद्घाटन समारोह में कहा कि भारत और बांग्लादेश मिलकर ‘बंगबंधु’ फिल्म बनाने वाले हैं।

उन्होंने समारोह के साथ ही एनएफडीसी फिल्म बाजार का भी उद्घाटन किया।

समारोह में अनेक एकेडमी पुरस्कार जीत चुके सिनेमेटोग्राफर वित्तोरियो स्तोरारो को लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

हालांकि 80 वर्षीय स्तोरारो समारोह में उपस्थित नहीं थे और उन्होंने एक वीडियो संदेश में इस सम्मान के लिए आईएफएफआई का शुक्रिया अदा किया।

भाषा

वैभव उमा

उमा

Share This

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password