बैंक अफसरों की लापरवाही के चलते दर दर भटकने को मजबूर किसान

बैंक अफसरों की लापरवाही के चलते दर दर भटकने को मजबूर किसान

image source : punjab kesari

image source : punjab kesari

भोपाल। बैंक के अफसरों की लापरवाही के चलते अन्नदाता दर दर ठोकरे खाने को मजबूर है। स्लीमनाबाद स्थित एसबीआई बैंक ने उन किसानों को भी कर्ज बकाया के संबंध में रुपए चुकाने के आदेश दे दिया जिनका कर्ज माफ हो चुका है। किसानों के पास बकायदा कर्ज माफी का पत्र भी है इसके बावजूद बैंक अफसर किसानों की समस्या नही सुन रहे है।

कर्ज के नाम पर पैसे भी ले लिए गए
मध्य प्रदेश के कटनी स्लीमनाबाद के ग्राम जुझरी का निवासी महेंद्र सिंह ने स्लीमनाबाद के एसबीआई बैंक पर 60 हजार वसूलने के आरोप लगाते हुए बताया कि जो पुराना कर्ज था वह माफ हो चुका है और उनके पास इसका पत्र भी है इसके बावजूद बैंक से जुड़े कर्मचारी उनसे पैसा मांगने के लिए पहुंच रहे हैं और उनके द्वारा यह कहा जाता है कि उनका कर्ज माफ नहीं हुआ है और उन्हें कर्ज़ के एवज में उन्हें पैसे चुकाने होंगे साथ ही जब बैंक कर्मियों से जमा किए गए पैसों की पासबुक में लेन देन का एंट्री करने को कहा जाता है तो बैंक के अफसर किसी तरह का जवाब नहीं दे रहे है पीड़ित किसान ने यह भी बताया कि उनसे कर्ज के नाम पर पैसे भी ले लिए गए हैं।

कर्ज वसूली का नोटिस दे दिया
स्लीमनाबाद के एसबीआई बैंक का एक और मामला सामने आया है जहाँ रामजी पटेल नाम के किसान की जमीन स्लीमनाबाद के धुरी गांव में हैं लेकिन बैंक की लापरवाही के चलते किसान रामजी पटेल शिकार हो गया किसान ने आरोप लगाया कि जिस कर्ज को सरकार ने माफ कर दिया उस कर्ज को बैंक वसूली कर रही है यहां तक कि जिस बैंक में उसका खाता नहीं है उसने भी कर्ज वसूली का नोटिस दे दिया है।

नियमनुसार वसूली की गई
जांच करने पर यह पाया गया कि किसी अन्य व्यक्ति का खाता खोल उनके दस्तावेज बैंक में जमा करा दिया गया वही जब स्लीमनाबाद के एसबीआई बैंक मैनेजर से बात की गई तो उनका कहना था बैंक में एक एक लेखा जोखा रहता है कोई भी लापरवाही नही हो सकती और कर्ज माफी की बात की जाए तो कई किसानों की कर्ज की बैंक के नियमनुसार वसूली की गई है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password