आज का मुद्दा

7/11/2018 12:00:00 AM

मंगलवार को कांग्रेस में कई बैठकें हुईं। बीजेपी को घेरने की रणनीति भी बनी। जानकारों का मानना है कि कांग्रेस परफॉर्मेंस को सुधारने में जुटी हुई दिख रही है। रणनीति को लेकर लगता है वो कोई भी एंगल छोड़ने के मूड में नहीं है। बीजेपी को घेरने का हर तरीका खोजा जा रहा है। 


10 जुलाई यानी मंगलवार का दिन कांग्रेस में मैराथन बैठकों के नाम रहा। ऐसा लगा कि कांग्रेस रणनीति पर जीरो टॉलरेंस के मोड में आ गई है। पहले आईटी सेल की बैठक हुई। सोशल मीडिया पर कांग्रेस के वीडियो पर चर्चा हुई। फिर एनजीओ के साथ चर्चा हुई। ये मीटिंग आदिवासी इलाकों में सहयोग पर फोकस रही। तो वहीं देर शाम अलग-अलग समाज के साथ बैठक हुई, लेकिन सबसे अहम रणनीति ये सामने आई कि, इस बार कांग्रेस, शिवराज सरकार की अधूरी योजनाओं को टारगेट करेगी। इसके लिए अलग से 'जीरो मैनिफेस्टो' किया जाएगा। वहीं, जो कांग्रेस का घोषणापत्र होगा वो महिला सुरक्षा पर केंद्रित होगा।

 

वहीं, बैठकें बीजेपी में भी हो रही हैं। जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने चाय पर प्रवक्ताओं को बुलाया। उससे पहले केंद्रीय मंत्री भी बैठक लेते दिख चुके। बीजेपी के लिए ये इसलिए नहीं चौंकाता, क्योंकि पार्टी का तेवर ही ऐसा है, लेकिन कांग्रेस में अचानक बैठकें होने लगे तो इसे भी कैसे नजरअंदाज किया जा सकता है। 


2018 विधानसभा में जीत-हार तो अभी दूर की बात है। उसका फैसला चुनाव परिणाम करेगा, लेकिन तैयारियों को लेकर जो जोश कांग्रेस में दिख रहा है। रणनीति को लेकर जो माहौल बना है, उससे लगता है कि इस बार दंगल आसान नहीं रहेगा।



ख़बर का वीडियो देखने के लिए क्लिक करें




Select Rate

Post Comment
 
Enter Code:
सम्बधित खबरे

देखें अन्य वीडियो

देखें अन्य फोटो