खोज खबर

शव रखा रहा, डाॅक्टर जीवित होने का इंतजार करते रहें

04 Jul 2018


अस्पताल में मृतक का शव रखा रहा। डाॅक्टर मृतक के जीवित होने का इंतजार करते रहें। 


डॉक्टर के साथ परिजन और पुलिस भी इंतजार करती रही। इस दौरान अस्पताल में  शव को जिन्दा करने तंत्र क्रिया हुई। अस्पताल के जिम्मेदार लोगों के सामने अंधविश्वास का खेल चला।  24 घंटे तक लाश के जिंदा होने के इंतजार में  


पूरे दिन शव का पोस्ट मार्टम नहीं किया जा सका।    


मामला कटनी के जिला अस्पताल का है, जहां सिंघनपुरी के युवक के शव को लाया गया था। युवक की सांप के काटने से  मौत हो गई। शव मर्चुरी में रखी रही। परिजन को तो तांत्रिक के दावे पर ही विश्वास था। पुलिस और डॉक्टर भी जिंदा होने का इंतजार  कर रहे थे। बताया जा रहा है कि डॉक्टरों ने युवक  को मृत घोषित कर पोस्टमार्टम की तैयारी शुरू कर दी थी, लेकिन इसी दौरान एक तांत्रिक पहुंचा और दवाओं के जरिए उसे जिंदा करने का दावा किया। दावा था कि, सांप के काटने के 72 घंटे तक इंसान की मौत नहीं होती। परिजन ने पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया। डॉक्टर और पुलिस भी राजी हो गए। हर दो घंटे में लाश का हिला कर देखा जाता। कहा जा रहा है कि युवक की मौत भी झाड़फूंक के चक्कर में ही हुई है। सांप के काटने के बाद पहले उसे तांत्रिक के पास ले जाया गया। जब हालत बिगड़ी, तब अस्पताल लेकर पहुंचे और कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई।


Select Rate

Post Comment
 
Enter Code:
सम्बधित खबरे

loading...

देखें अन्य वीडियो

देखें अन्य फोटो