धर्म और हम

प्रभु यीशु की याद में "गुड फ्राइडे" आज, ईसाई समाज ने निकाली क्रूस यात्रा

3/30/2018 12:00:00 AM

गुड फ्राइडे के अवसर पर राजधानी में भी प्रभु ईशू के याद किया गया। सभी चर्चों में प्रार्थनाएं की गई। गुड फ्राइडे के दिन ईसा मसीह ने उत्पीड़न और यातनाओं को सहते हुए मानवता के लिए अपने प्राण त्यागे थे। इसलिए गुड फ्राइडे को होली फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे या ग्रेट फाइडे भी कहा जाता है।ईसा मसीह के अनुयायी क्रॉस को चूमकर उन्हें याद किया करते है। साथ ही चर्च में जाकर सामाजिक कार्यों के लिए दान देते हैं। गुड फ्राइडे के दिन ईसाई धर्म को मानने वाले अनुयायी गिरजाघर जाकर प्रभु यीशु को याद करते हैं। चर्च और घरों से सजावट की वस्तुएं हटा ली जाती हैं या उन्हें कपडे़ से ढक दिया जाता है।


वहीं, जबलपुर के गिरजाघरों में भी गुड फ्राइडे परम्परागत ढंग से मनाया गया। यहां ईसाई समाज के लोगों ने ईसा मसीह की क्रूस यात्रा निकाली, जो रसल चौक से बस स्टैंड होती हुई होली ट्रिनिटी चर्च पहुंची, जहां ईसाई समाज के लोगों ने ईसा मसीह की सूली पर चढ़ाए जाने की कहानियां सुनाई। वही क्रूस यात्रा में शामिल हुए लोगों ने बताया कि प्रभु ईसा मसीह ने लोगों के पाप को मिटाने के लिए अपना बलिदान दिया था।





Select Rate

Post Comment
 
Enter Code:
सम्बधित खबरे

देखें अन्य वीडियो

देखें अन्य फोटो