'दुनिया'

अमेरिका-चीन के बीच शुरु हुआ ट्रेड वॉर, वैश्विक व्यापार पर गहराया संकट

3/24/2018 12:00:00 AM

अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक जंग छिड़ने से शुक्रवार को दुनियाभर के वित्तीय बाजारों पर खासा प्रभाव पड़ा है। वहीं, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ एक बड़ी व्यापारिक जंग का शंखनाद कर दिया है। जिसके तहत चीनी सामान के आयात पर 60 अरब डॉलर का शुल्क (टैरिफ) लगाया गया है। वहीं, चीन ने भी अमेरिकी वस्तुओं के आयात पर तीन अरब डॉलर का शुल्क लगाने का ऐलान किया है। करीब-करीब 25 साल के इतिहास में चीन के साथ सबसे तीखी व्यापारिक तनातनी के बीच ट्रंप ने चीनी वस्तुओं के आयात पर शुल्क लगाने के आदेश पर हस्ताक्षर किए।


साथ ही, अमेरिका ने अमेरिकी प्रौद्योगिकी में निवेश की बीजिंग की आजादी कम कर दी है.  दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच संभावित व्यापारिक जंग के कारण वित्तीय बाजार सकते में रहा। ट्रंप ने चीन को अमेरिका में हजारों नौकरियां छीनने और अरबों डॉलर का नुकसान पहुंचाने के लिए जिम्मेदार ठहराया। चीन ने इस पर पलटवार करते हुए ट्रंप के बुधवार के ऐलान को एक पक्षीय व संरक्षणवादी बताया। चीन के वाणिज्य मंत्री ने कहा कि अमेरिका ने बहुत बुरी मिसाल कायम की है जबकि विदेश मंत्री ने अमेरिका से समझदारी व विवेकपूर्ण ढंग से फैसले लेने का आग्रह किया।


अमेरिका ने चीन के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में शिकायत दर्ज करवाई। उसने एक बयान में कहा, "ऐसा प्रतीत होता है कि लाइसेंस का अनुबंध समाप्त होने के बाद चीनी कंपनियों को प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करने से रोकने के अमेरिकी कंपनियों समेत अन्य देशों के पेटेंट धारकों के मौलिक पेटेंट अधिकारों को अस्वीकार करके डब्ल्यूटीओ के नियमों का उल्लंघन कर रहा है।" अमेरिका ने कहा, "ऐसा लगता है कि चीन आयातित विदेशी प्रौद्योगिकी के विरूद्ध भेदभाव वाले और कम अनुकूल शर्ते थोप कर डब्ल्यूटीओ के नियमों का उल्लंघन कर रहा है।"


Select Rate

Post Comment
 
Enter Code:
सम्बधित खबरे

देखें अन्य वीडियो

देखें अन्य फोटो