'देश'

फिर खुलेगा आरुषि-हेमराज हत्याकांड का बहुचर्चित केस, SC में हेमराज की पत्नि की याचिका मंजूर

3/19/2018 12:00:00 AM

देश के चर्चित हत्याकांडों में से एक नोएडा का आरुषि-हेमराज मर्डर केस एक बार फिर सुर्खियों में है, इसमें इलाहबाद हाईकोर्ट से बरी हुए तलवार दंपति की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ सकती हैं। इसकी वजह ये है कि, सुप्रीम कोर्ट ने हेमराज की पत्नी की याचिका को मंजूर कर लिया है। इस याचिका में तलवार दंपति की रिहाई के खिलाफ और हाईकोर्ट के फैसले पर विचार की याचिका दायर की गई थी। कोर्ट ने याचिका मंजूर करते हुए कहा कि, सुप्रीम कोर्ट इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले की छानबीन करेगा। दरअसल, याचिका में कहा गया है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ये तो माना कि, हेमराज और आरुषि की हत्या हुई है, लेकिन किसी को दोषी नहीं माना और तलवार दंपति को रिहा कर दिया।


आपको बता दें कि, निचली अदालत ने इस मामले में राजेश तलवार और नूपुर तलवार को दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी, लेकिन हाइकोर्ट ने इस फैसले को पलटते हुए तलवार दंपत्ती को बेगुनाह करार देते हुए बरी कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल विशेष अनुमति याचिका में सीबीआई ने कहा कि, कोर्ट के आदेश में कई खामियां है। सीबीआई ने कहा कि, निचली अदालत ने जो फैसला दिया था, काफी सोच विचार कर साक्ष्यों के आधार पर दिया था।


मामले को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने 273 पेज के फैसले में कहा था कि, गलत विश्लेषण के जरिए निचली अदालत पहले से ही मान बैठा था कि, नुपुर और राजेश तलवार घटना में दोषी हैं। मालूम हो कि, नोएडा के जलवायु विहार के फ्लैट नंबर एल 32 में 15 और 16 मई 2008 की आधी रात आरुषि और हेमराज के साथ क्या हुआ उसका निचली अदालत के जज ने फिल्म डायरेक्टर की तरह काल्पनिक और रंगीन तरीके से वर्णन किया।हाईकोर्ट ने कहा कि, तलवार दंपति पर लगाए गए आरोपों के बदले सीबीआई कोई भी सबूत पेश नहीं कर सकी है।


Select Rate

Post Comment
 
Enter Code:
सम्बधित खबरे

देखें अन्य वीडियो

देखें अन्य फोटो