'देश'

डाक्टर्स की करतूत से इंसानियत शर्मसार, मरीज के कटे पैर को ही बना दिया उसका तकिया

3/11/2018 12:00:00 AM

उत्तर प्रदेश के झांसी शहर के झांसी मेडिकल कॉलेज में डाक्टरों की ऐसी करतूत सामने आई है, जिसने इंसानियत को शर्मसार कर दिया है। दरअसल, मेडिकल कॉलेज में एक मरीज का पैर काटकर उसके ही सिर के नीचे तकिए की जगह लगा दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 25 साल के घनश्याम को एक सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद  हॉस्पिटल लाया गया था। घनश्याम एक स्कूल में बस क्लीनर के तौर पर काम करता है। बच्चों को ले जाते समय शनिवार सुबह बस पलट गई और घनश्याम समेत करीब आधा दर्जन बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गए।


घटना के तुरंत बाद घनश्याम को झांसी मेडिकल कॉलेज लाया गया, जहां डॉक्टर्स ने उसका ऑपरेशन कर पैर काट दिया और उसका कटा पैर उसी के सिर के नीचे तकिए के तौर पर लगा दिया। जब वहां मौजूद मरीज के परिजन और मीडियाकर्मियों की इसपर नजर पड़ीतो उनके होश उड़ गए। घनश्याम के परिजन ने मीडिया को बताया कि, जब हम अस्पताल पहुंचे, हमने उसका कटा पैर उसके सिर के नीचे लगा देखा, तो मैंने कई बार डॉक्टर्स से इस बारे में कहा, लेकिन उन्होंने इसपर कोई गौर नहीं किया। घटना की खबर बाहर आने के बाद अस्पताल प्रबंधन की नींद खुली।


बाद में उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन के निर्देश पर जनपद झांसी के मेडिकल कॉलेज में एक युवक के कटे पैर के प्रति डॉक्टरों ऐर नर्सों की लापरवाही की घटना का संज्ञान लेते हुए सीनियर रेजीडेण्ट (ऑर्थोपेडिक्स) डॉ. आलोक अग्रवाल, ईएमओ डॉ. महेन्द्र पाल सिंह, सिस्टर इंचार्ज दीपा नारंग तथा शशि श्रीवास्तव को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया। इसके अलावा, असिस्टेंट प्रोफेसर (ऑर्थोपेडिक्स) डॉ. प्रवीण सरावगी के खिलाफ भी विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं।


Select Rate

Post Comment
 
Enter Code:
सम्बधित खबरे

देखें अन्य वीडियो

देखें अन्य फोटो