ब्लॉग

लगी धारा 144, अब बेमौत नहीं मरेंगे परिन्दे

11 Jan 2017

मकर संक्रांति के मौके पर आसमान रंगीन हो जाता है। रंग बिरंगी पतंगे हवा में हिलोरे खाती दिखती है और फिर शुरु होती जंग, एक-एक कर कई पतंगे कटती-लुटती है। हालांकि इस लड़ाई में माजा अहम भूमिका निभा रहा होता है। जिसका मांजा जितना तेज उसका उतना दबदबा। लंबी ढील के बाद माजे में कसावट, दांव पेंच के खेल में जिसकी जमी वो पास, जिसकी कटी वो फेल, लेकिन इस पतंगबाजी के शौंक में सैंकड़ो बेजुबान पक्षी बेमौत मारे जाते हैं।      



मांजा देसी हो या चाइनीज किसी को नहीं बक्शता। कभी टूव्हीलर, तो कभी सायकल चालक इसकी चपेट में आकर घायल होते हैं। मांझा लोगों को जख्मी करता है। उसका तीखा पन बेहद खतरनाक है। लिहाजा संक्रांति के मौंके पर प्रशासन ने मन बनाया कि बेजुबानों पर कहर बरपाने वालों को बक्शा नहीं जाएगा। बुरहानपुर कलेक्टर दीपक सिंह ने चाइनीज मांजे पर प्रतिबंध लगाया है। साथ ही कहा कि यदि चाइनीज मांझे की बिक्री हुई, तो धारा 144 के तहत आरोपी पर कार्यवाही की जाएगी।



अपने शौंक के लिए जहां हम दूसरों को मुसीबत में डाल देते हैं। वहीं परिंदों पर भी रहम नहीं करते। लिहाजा कलेक्टर के इस फैसले से समाज में सही संदेश जाएगा। मांजा चायनीज हो या देसी, पेंच लड़ाने से पहले जरा सोचें, परिंदों को आसमान और धरा पर किसी को तकलीफ न हो।   


ब्लॉगर : तजिन्दर सिंघ, भोपाल



Select Rate

Post Comment
 
Enter Code:
सम्बधित खबरे

loading...

देखें अन्य वीडियो

देखें अन्य फोटो