खबरे सबसे तेज
Weather तपने लगा सूरज

पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश का मौसम शुष्क रहा। दिन में अधिकतम तपमान की बात की जाए तो राजधानी भोपाल के जिले के मौसम में बढ़ोतरी देखी गई। साथ ही,शहडोस, इंदौर और ग्वालियर जिले में सामान्य से अधिक तापमान देखने को मिला। प्रदेश में सबसे अधिक तापमान की अगर बात करें तो, 40 डिग्री सेल्सियस तापमान प्रदेश के कई जिलों में दर्ज हुआ।



इसके अलावा न्यूनतम तापमान की अगर बात करें तो प्रदेश में सागर और ग्वालियर के जिलों में खास गिरावट आई। साथ ही इंदौर, होशंगाबाद और जबलपुर में तापमान सामान्य से कम दर्ज किया गया। साथ ही प्रदेश में सबसे कम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जो प्रदेश के रीवा और बैतूल का रहा।



मध्यप्रदेश का तापमान


भोपाल का अधिकतम तापमान 38.9 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 20.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, इंदौर का अधिकतम तापमान 37.6 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 21.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जबलपुर का अधिकतम तापमान 37.4 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 20.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, ग्वालियर का अधिकतम तापमान 40.0 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 20.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।




छत्तीसगढ़ का तापमान


रायपुर में अधिकतम तापमान 39.3 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 24.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, बिलासपुर का अधिकतम 39.9 तापमान डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 22.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जगदलपुर का अधिकतम तापमान 37.0 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 20.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, अंबिकापुर का अधिकतम तापमान 36.3 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 19.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।

और भी..
Today's Issue

2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मध्य प्रदेश बीजेपी किस तैयारी के साथ जुट गई है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद विधायकों के परफॉर्मेंस पर नजर रख रहे हैं। हालांकि अभी चुनाव में करीब सवा साल का वक्त है। गुरुवार को हुई विधायक दल की बैठक में शिवराज ने कहा कि वो चाहते हैं कि सभी मौजूदा विधायकों को फिर टिकट मिले। सभी के पास सवा साल का वक्त है। अपने काम और परफॉर्मेंस को रफ्तार दें। अपने काम का आकलन करें।साथ ही क्षेत्र में सक्रियता बढ़ाएं।


अब भी बाकी हैं सवा साल

रह न जाए कोई मलाल

क्षेत्र में जाकर जानें हाल

सीएम खुद करेंगे सवाल 



2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मध्य प्रदेश बीजेपी किस तैयारी के साथ जुट गई है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद विधायकों के परफॉर्मेंस पर नजर रख रहे हैं। गुरुवार को हुई विधायक दल की बैठक में शिवराज ने कहा कि वो चाहते हैं कि सभी मौजूदा विधायकों को फिर टिकट मिले। सभी के पास सवा साल का वक्त है। अपने काम और परफॉर्मेंस को रफ्तार दें। अपने काम का आकलन करें। साथ ही क्षेत्र में सक्रियता बढ़ाएं।


सीएम ने कहा कि पार्टी सभी विधायकों के परफॉर्मेंस का सर्वे करवा चुकी है और मेहनत के साथ क्षेत्र में जुट जाएं। 30 अप्रैल के बाद वो विधायकों से वन-टू-वन चर्चा में सर्वे की हकीकत विधायकों को बताएंगे। ज़ाहिर है। सीएम और पार्टी दोनों चाहते हैं कि विधायक चुनावी तैयारियों में जुट जाएं।



शिवराज ने विधायकों को निर्देश दिए कि 14 अप्रैल से शुरू हो रहे ग्रामोदय अभियान पर वो अपना फोकस रखें। इस अभियान के दौरान हर क्षेत्र में गरीब कल्याण रैली निकाल कर वे सरकार की योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों को दिलाए। इसके बाद 30 मई को भोपाल में बड़ी रैली होगी। दरअसल, पार्टी चाहती है कि विधायक सरकार की योजनाओं को व्यापक तरीके से जनता के बीच ले जाएं। दरअसल, ये पूरी एक्सरसाइज़ इसलिए भी मायने रखती है क्योंकि बड़ी संख्या में विधायकों के खराब परफॉर्मेंस और असंतोष की खबरें सामने आती रहती हैं। ऐसे में बीजेपी किसी भी तरह का जोखिम नहीं लेना चाहती। सरकार के काम और सीएम की इमेज के सहारे वो विधायकों को अपनी छवि सुधारने का मौका दे रही है।। अगर तय समय में विधायक क्षेत्र में अपनी सक्रियता बढ़ा पाते हैं तो ठीक है। नहीं तो बीजेपी में एक-एक सीट टिकट के दावेदारों की कमी नहीं है।

और भी..
आज का सवाल

नतीजा            पिछला सवाल

क्या आप मोदी सरकार के 500 और 1000 के नोट बदलने के फैसले को सही मानते हैं ?


         

शेयर बाजार
Share Market BSE

Share Market NSE
मध्य प्रदेश
खबरें शहरो से
छत्तीसगढ़

Follow Us

       
विज्ञापन के लिए संपर्क करे
x