खबरे सबसे तेज
Loading...
Weather फिलहाल ठंड का असर हुआ कम


मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में ठंड का असर कम होता जा रहा है। बीते 2 दिनों से लगातार मौसम सामान्य बना हुआ है। न्यूनतम तापमान लगभग स्थिर चल रहा है। दोनों प्रदेशों के कुछ क्षेत्र में ठंड थोड़ी बढ़ी है पर मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में ठंड का असर फीका पड़ गया है, हालांकि मौसम विभाग ने आने वाले दो दिनों में ठंड के बढ़ने के आसार जताए हैं।  


मध्यप्रदेश के प्रमुख शहरों का तापमान 

भोपाल का न्यूनतम तापमान 11.8 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 12.3 डिग्री सेल्सियस, उज्जैन 10.0 डिग्री सेल्सियस, रीवा 6.4 डिग्री सेल्सियस, जबलपुर 9.5 डिग्री सेल्सियस, खजुराहो 9.2 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर 9.5 डिग्री सेल्सियस। 


छत्तीसगढ़ के शहरों का तापमान 

रायपुर 12.7 डिग्री सेल्सियस, अंबिकापुर 8.7 डिग्री सेल्सियस, बिलासपुर 11.2 डिग्री सेल्सियस, पेंड्रा रोड 11.2 डिग्री सेल्सियस और जगदलपुर में न्यूनतम तापमान 7.8 डिग्री सेल्सियस।

और भी..
loading...

मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें

छत्तीसगढ़ की बड़ी खबरें

वर्गीकृत फोटोन्यूज़
Today's Issue

जहां चुनाव की तारीख के एलान से पहले बीजेपी और कांग्रेस की तैयारियां युद्ध स्तर पर पहुंच गईं। वहां अब मतदान की तारीख का एलान हो गया है, मुंगावली और कोलारस में 24 फरवरी के लिए उपचुनाव पर मतदान होंगे, 28 फरवरी को नतीजे आएंगे। उम्मीदवारों का नामांकन 30 जनवरी से 6 फरवरी तक  होगा। यहां लड़ाई बीजेपी बनाम कांग्रेस नहीं, बल्कि शिवराज बनाम सिंधिया है। इसे सत्ता का सेमीफाइनल भी बताया जा रहा है, क्योंकि इसके बाद 2018 में सीधे विधानसभा के ही चुनाव होने हैं।


मुंगावली और कोलारस के नतीजों का असर दोनों ही पार्टियों पर पड़ने के कयास लगाए जा रहे हैं। खासकर ज्योतिरादित्य सिंधिया के फ्यूचर में क्या भूमिका होगी, वो इसी पर ही टिकी है, विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश कांग्रेस के वो चेहरा होंगे या नहीं, ये भले अभी सस्पेंस है। लेकिन जब उपचुनाव के रिजल्ट आएंगे। तब कयास के बादल भी छंटते दिखेंगे। जीतने पर सिंधिया की दावेदारी मजबूत मानी जाएगी। वैसे भी इस बार सिंधिया कोई मौका गंवाना नहीं चाहते। अब देखिए ना, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सामने पार्टी की जीत का जो फॉर्मूला सौंपा गया है। उसमें कमलनाथ और सिंधिया दोनों ने अपने फॉर्मूले दिए हैं। चेहरे पर भले एकराय नहीं हो, मगर जब मुंगावली और कोलारस की जंग खत्म होगी, तब बीजेपी को भी मालूम है कि जीतने पर कांग्रेस से शिवराज के मुकाबले किसे खड़ा किया जाएगा, इसलिए पार्टी ने सिंधिया को ही निशाने पर ले रखा है, ताकि गढ़ में सिंधिया को हराने के बाद शिवराज की लोकप्रियता को मजबूती से स्थापित किया जाए।



ख़बर का वीडियो देखने के लिए क्लिक करें



और भी..
आज का सवाल

नतीजा            पिछला सवाल

मामा के राज्य में बहनों (महिला शिक्षाकर्मी) का मुंडन, उनका सम्मान है ?


         

थैंक यू डॉक्टर !
मध्य प्रदेश
खबरें शहरो से
छत्तीसगढ़

Follow Us

       
विज्ञापन के लिए संपर्क करे
x